Aashish Rajput 

Founder Natarj Arts

श्री आशीष राजपूत ने अपने रंगकर्म की यात्रा 1996 में बाल कलाकार के रूप में शुरू की थी। उसके बाद सन् 2000 में मुख्यधारा के रंगमंच से जुड़ाव हुआ। उनका यह जुड़ाव कई पड़ाव से होकर गुजरा स्वास्तिक रंगमंडल (मथुरा)बृजवासी रंगमंडल (मथुरा) संकेत रंग टोली (मथुरा) सांस्कृतिक सेवा संस्थान (लखनऊ) यायावर रंगमंडल (लखनऊ) संगीत नाटक अकादमी (लखनऊ) ईशान ग्रुप (इटावा) प्रयास कला संगम (लखनऊ) मंथन कला समिति (इलाहाबाद) इप्टा (आगरा) आवाज)कला मंच (आगरा) रंग लोक (आगरा) एकजुट थिएटर ग्रुप (मुंबई) गीत एवं नाटक प्रभाग (नई दिल्ली) आदि संस्थाओं के साथ काम करते हुए उन्होंने श्री वेद भारद्वाज, श्री संदीपन विमल कांत नागर जी, श्री मुकेश शर्मा, श्री एम गनी, श्री जगमोहन रावत जी, श्री जितेंद्र मित्तल जी, श्री चंद्र मोहन जी, श्रीमती शैलजा कपूर पाठक, श्री संजय सिंह श्रीमती नीतू पांडे श्री प्रवीण चंद्रा, श्रीमती चित्रा मोहन, श्री रतिनाथ योगेश्वर, श्री जितेंद्र रघुवंशी, श्री दिलीप रघुवंशी, श्री अरुण त्रिवेदी, श्री विजय शर्मा, श्री डिंपी मिश्रा, श्री मति नादिरा जहीर बब्बर, श्री रंजीत कपूर, श्री आत्मजीत सिंह, श्री मति साबिर हबीब, श्री जफर संजरी, श्री गुरु विश्वजीत ,श्री रॉबिन दा, श्री मोहन महर्षि जी, श्री रघुवीर यादव, श्री सीमा विश्वास, श्री राजीव मुद्गल,श्री विभा छिब्बर, श्री उषा भाऊ कर जी, श्री चित्रा मुद्गल जी, श्री आलोक चटर्जी जी, श्री गोविंद नामदेव, श्री पीयूष मिश्रा, श्री अनुपम श्याम, श्री राजेंद्र नाथ और श्री सुकेश सान्याल जी आदि रंगमंच के निर्देशकों का सानिध्य प्राप्त हुआ और अभिनय की बारीकियों को गुरुजनों से सीखा और इन सभी से खूब प्रेम और स्नेह पाया श्री आशीष राजपूत जी ने लगभग 37 पूर्ण कालीन नाटकों में अभिनय किया है जिसमें से उनके कुछ प्रमुख नाटक हैं गिरगिट, सैंया भए कोतवाल, रंग बदलती दुनिया, बगिया बांछाराम, श्रीमान जी, बचाव पक्ष का बचपन, बीवियों का मदरसा, सफर, पहला और आखरी, डेढ़ इंच ऊपर , जै बात तो है, तो सम पुरुष ना मोह सम नारी, जाति पूछो साधु की, बेगम का तकिया, सच जूता नमक, द जनपद किस, होली, बाप रे बाप, खूबसूरत बहू, भगबातज्जुकीयम्, आषाढ़ का 1 दिन ,दुलारी बाई और जिस लाहौर नहीं देख्या,यह नाटक उनके प्रमुख नाटक हैंl जिसमें किए गए अभिनय को दर्शकों द्वारा खूब सराहा गया और पसंद किया गया है। श्री आशीष राजपूत जी को भारतवर्ष के प्रसिद्ध और वरिष्ठ रंग कर्मियों का सानिध्य- आशीर्वाद और उनसे स्नेह-प्रेम प्राप्त हुआ। और इस समय भी उनकी यात्रा निरंतर जारी है।

About The Natraj Arts

नटराज ग्रुप ऑफ़ आर्ट्स ट्रस्ट मथुरा नटराज ग्रुप की शुरुआत कुछ बाल कलाकारों के द्वारा की गई सन 1996 में कुछ बालक और बालिकाओं ने मिलकर इस छोटे से समूह की नींव रखी जो कि अलग-अलग प्रतिभाओं के धनी थे फिर इस समूह में कई प्रकार की कलाएं विधाएं जुड़ती चली गई जैसे नाट्य गायन, नृत्य संगीत चित्रकला, सांझी कला वादन, लोकगीत, लोकनृत्य, कठपुतली, रंगोली मेहंदी, मुखौटा कला, हस्तकला, पुस्तक कला आदि और भी कई प्रकार की कलाएं और कलाकार इस समूह से जुड़ते चले गए जिससे यह समूह और प्रखर होता चला गया अभावों के बावजूद यह छोटा सा समूह निरंतर सक्रिय रहा नटराज ग्रुप समय-समय पर और भी कई सरकारी गैर सरकारी संस्थाओं के साथ मिलकर जनसंपर्क और जागरूकता के कार्यों को करता रहा है हमने सामाजिक मुद्दों को उठाया है और सामाजिक कुरीतियों और कई सामाजिक विषयों पर खुलकर बात की है समाज में जागरूकता अभियान चलाएं हैं सामाजिक जागरूकता फैलाई है मुख्यतः सर्व शिक्षा अभियान बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत कौशल विकास जनसंख्या नियंत्रण सड़क सुरक्षा और भी कई अभियानों में भागीदारी की ओर बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया है जागरूकता फैलाई है इसके अलावा पर्यावरण प्रदूषण सौर ऊर्जा वृक्षारोपण जल संरक्षण यमुना शुद्धिकरण जैसे प्राकृतिक संरक्षण के प्रति जागरूकता अभियान लगातार चलाते आ रहे हैं इसके साथ अपनी ब्रज की संस्कृति ब्रज की भाषा लोकगीत लोकनाट्य लोक नृत्य लोक साहित्य के लिए विशेष रूप से कार्य कर रहे हैं और भी कई प्रकार की कलाएं जो ब्रिज से विलुप्त होती जा रही हैं उन को संरक्षित करने का प्रयास कर रहे हैं नटराज ग्रुप में सरकारी संस्था और गैर सरकारी संस्थाओं के साथ मिलकर भी कई अभियान चलाए हैं आम जनमानस तक बड़े ही प्रभावशाली तरीके से अपनी बात को पहुंचाया है और यह नटराज ग्रुप मुख्यता रंगमंच के प्रति समर्पित ग्रुप है इसी के साथ ब्रज में रह रहे गरीब असहाय अनाथ वृद्ध विकलांग बधिर मूक बधिर विधवाओं गरीब कन्याओं बालक बालिकाओं बेसहारा पशु पक्षी गोवंश इत्यादि के लिए सेवा कार्य करना एवं यथासंभव मदद प्रदान करने का कार्य लगातार कर रहे हैं

नटराज का उद्देश्य हमारा उद्देश्य है कि ब्रज की संस्कृति और ब्रिज की भाषा के लिए निरंतर कार्य करना एवं हिंदी रंगमंच के साथ-साथ ब्रज रंगमंच एवं सभी ललित कलाओं का समावेश करके लोक संस्कृति और ब्रजभाषा का रंगमंच और ब्रजनाथ जैसी नौटंकी सोंग्स रासलीला रामलीला का आधुनिकरण करना ब्रिज के कलाकारों को मंच प्रदान करना और मंच प्रदान करने के साथ-साथ ब्रिज के कलाकारों को रंगमंच का अभिनय गायन वादन नृत्य संगीत रूप सज्जा सेट डिजाइनिंग लाइट डिजाइनिंग और भी कई प्रकार की तकनीकी कार्यों की प्रॉपर ट्रेनिंग यानी कि कार्य बद्ध तरीके से शिक्षा प्रदान करना इसी के साथ रंगमंच से जुड़े नामचीन हस्तियों को समय-समय पर बृज में बुलाकर उनके अनुभव और ज्ञान एवं विचारों को साझा करना व उनके द्वारा रंगमंच की शिक्षा कार्यशाला सेमिनार घोस्टिया आदि के द्वारा शिक्षा प्रदान करना इसके साथ-साथ मथुरा में एक अत्याधुनिक सुख सुविधाओं और तकनीक से सुसज्जित विश्व स्तरीय प्रेक्षा ग्रह का निर्माण करना ताकि रंगमंच की गरिमा बनी रहे और देश विदेश में जाकर ब्रज की संस्कृति और कलाओं का प्रदर्शन कर रंगमंच को नई युवा पीढ़ी से जोड़ना और दर्शकों की नई श्रंखला खड़ी करना ताकि ब्रजभाषा कारण उन्हें ऊंचाइयों पर पहुंच सकें इसमें हमें आपके सहयोग की विशेष आवश्यकता है हम और आप साथ मिलकर ही इस लुप्त होती विधा को जीवित कर सकते हैं तो आइए हम और आप साथ मिलकर ब्रिज की धरोहर इस विरासत इस संस्कृति को लुप्त होने से बचाते हैं हम और आप साथ मिलकर ब्रिज के कलाकारों और उनके सम्मान की प्रतिष्ठा को पुनः जीवित करें और उन्हें रंगमंच की स्थापना करें |

Scroll to Top